असफलता के बाद कैसे उठें- 8 Easy Steps

(How to rise after failure - 8 Easy Steps in hindi) 



अक्सर लोग कहते हैं - यार इस बार तो बहुत मेहनत की थी, लग रहा था कि काम हो जाएगा लेकिन अफसोस ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।

वैसे हम मे से कोई भी फेल नहीं होना चाहता, और होना भी क्यों है - भाई हमें तो लाइफ में आगे बढ़ना है और हमेशा जीतना है। बात सही है। हारना कोई नहीं चाहता। हम सभी जीतना चाहते हैं। सफल होना चाहते हैं लेकिन फिर भी बहुत बार हमें failure का सामना करना ही पड़ता है। तो ऐसे में बहुत सारे लोग डिप्रैस हो जाते हैं और फिर से कोशिश करने से घबराने लगते हैं। तो ऐसे लोग कभी भी सफल नहीं हो सकते। क्योंकि जीत में उनके लिए passion नहीं होता और हार को स्वीकारने की हिम्मत नहीं होती।

वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग ऐसे होते हैं जो "जीत" की हर संभव कोशिश करते हैं लेकिन फिर भी जब हार जाते हैं तो हार से बिल्कुल डरते नहीं है, ना ही उसके सामने घुटने टेकते हैं बल्कि फिर से खड़े होते हैं और पहले से कहीं ज्यादा जोश और ताकत के साथ आगे बढ़ते हैं। ताकि जल्दी से जल्दी सफल हो सके। ऐसे लोग ही सफल और महान बनते है। फिर चाहे धीरूभाई अंबानी की बात हो, रतन टाटा की या स्टीव जॉब्स की। Successful लोगों ने अपनी life मे  लगातार डटे रहकर के सफलता हासिल की है।

अगर आप भी failure से घबराते हैं और फेल होने के बाद अब बाउंसबैक करना आपके लिए मुश्किल हो रहा है तो फिक्र मत कीजिए। क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए हैं ऐसी जानकारी जो आपको guide करेगी। ऐसी जानकारी जिसे फॉलो करके आप failure से डरना छोड़ देंगे और उससे बाहर निकलना भी आपके लिए काफी आसान हो जाएगा।

तो चलिए शुरू करते हैं और इस गाइडलाइन में आपको step by step बताते हैं कि किस तरीके से आप failure से success तक का सफर तय कर सकते हैं।

असफलता के बाद कैसे उठें- 8 Easy Steps
 (8 Easy Steps to rise after failure in hindi) 

असफलता के बाद कैसे उठें- 8 Easy Steps


( 1). Accept failure

सबसे पहले आप अपने failure को स्वीकार कीजिए। क्योंकि अब आप इससे ना तो बच सकते हैं और ना ही इनकार सकते हैं। इसलिए बेहतर यही होगा कि आप खुद से कहिए कि "हां इस बार मैं फेल हो गया हूं लेकिन कोई बात नहीं, ठीक है, यह सब के साथ होता है और मेरे साथ भी हुआ है"। ऐसा करके आप अपने failure से बाहर निकलने का रास्ता आसान कर सकते हैं।

( 2). Take full responsibility for failure

दूसरा स्टेप मे, अपने failure की पूरी पूरी जिम्मेदारी लीजिए। यदि अपनी सक्सेस का क्रेडिट आप ले सकते हैं तो अपने हार का क्रेडिट क्यों नहीं ले सकते। मतलब इसमें परेशानी क्या है सबकी लाइफ में यह सिचुएशन आती है। आपको यह समझना होगा कि हर कोई कभी ना कभी फेल होता है। इस बार आप की बारी थी। अपने उन action और decision की पूरी पूरी जिम्मेदारी लीजिए जिनके कारण आप फेल हुए। क्योंकि अपने हार के लिए दूसरों को blame करके आप आगे बढ़ने की सारे रास्ते बंद कर लेंगे। इसीलिए अपने फैसलों की जिम्मेदारी खुद उठाइए।

( 3). Analyze mistakes

तीसरा स्टेप यह है कि आप अपनी mistakes (गलतियों) को analyse कीजिए। एक बार अपने failure की जिम्मेदारी लेने के बाद अब बारी आती है अपने गलतियों को analyse करने की । उन्हें देखने की, उन्हें परखने और सुधारने की। आपके कौन से action गलत साबित हुए । कहां-कहां गलती हुई, कैसे हुई और कौन से decision के कारण आप सफल होने से चूक गए। इन सारी बातों को एनालाइज करने से आप आगे ऐसी गलतियां करने से बच जाएंगे। आपका time और effort भी बचेगा और एक नइ approch के साथ सही डायरेक्शन में आगे बढ़ना आपके लिए आसान हो जाएगा। इसीलिए अपनी गलतियों को समझिए और उनसे सीख लीजिए ताकि वह दोबारा repeat ना हो। इसीलिए तो कहते हैं कि "एक गलती एक बार, बार-बार नहीं"

( 4). Don't be drowned in failure

आगे चौथा स्टेप कहता है कि अपने failure में डूब करके मत रहिए। फेल होने के बाद में कुछ भी अच्छा नहीं लगता- खाना-पीना, यहाँ तक की favorite song भी अच्छा नहीं लगता। बिल्कुल दुखी और उदास हो जाते हैं। सच तो यह है कि फेल होने के बाद अगर आप लंबे टाइम तक अपने लिए दुख मनाते रहेंगे तो आप खुद को सिर्फ कमजोर बनाएंगे। ऐसा करने से हासिल तो कुछ नहीं होता बस आपके सफल होने के प्रयास खत्म होने लगते हैं। यानी अब आप पीछे जाने लगते हैं। इसलिए अपनी हार को याद करते रहने के बजाय उससे बाहर आइए क्योंकि आपका जितना अभी बाकी है।

( 5). Make mind set positive

इस स्टेप मे अपने माइंड सेट को पॉजिटिव बनाइए। Failure के बाद में भले ही आपने बहुत सारे negativity को face किया हो, भले ही आप अपने ability पर डाउट करने लगे हो और failure से आगे बढ़ने की सोच भी नहीं पा रहे है। लेकिन इन सबके बावजूद अगर आप वाकई में failure से बाहर आने चाहते है तो आपको अपना माइंड सेट positive बनाने की कोशिश करनी होगी। आपको खुद से यह सवाल करने होंगे कि क्या आप इस negativity में ही जीना चाहते हैं या इस से बाहर निकलना चाहते हैं। निश्चित रूप से एक "हार" आप को तोड़ सकती है। लेकिन क्या अब बाउंस बैक नहीं करना चाहते हैं? क्या खुद को सफल होना नहीं देखना चाहते हैं? इन सारे सवालों के बाद अगर आप वाकई में "डर" को पीछे छोड़कर आगे बढ़ना चाहेंगे तो negative thoughts का साथ छोड़ देंगे और माइंड में positivity भरना शुरू कर देंगे। सिर्फ एक कदम, एक कदम आगे बढ़ा कर तो देखिए।

चलिए इसी के साथ आप और मैं भी एक कदम और आगे बढ़ाते हैं और बात करते हैं छठे स्टेप की -

( 6). Let go of fear

इस step मे आप डर का साथ  छोड़ दीजिए। जी हां, आपको पता है  success का दुश्मन कौन होता है? success का दुश्मन होता है - 'failure का fair' अर्थात 'फेल होने का डर' और यही डर आपको सफल होने से रोकता है। इसी डर की वजह से आप कुछ नया try करने से डरते हैं। क्योंकि आप फेल होने से डरते हैं। लेकिन अगर आप सच में सफल होना चाहते हैं तो सबसे पहले इस failure के डर को हटाइए। 'डर' को बताइए कि - आप कोशिश करते रहेंगे, आप कुछ नया आजमाते रहेंगे, क्योंकि आप रुकना नहीं चाहते। डर के आगे झुकना बिल्कुल नहीं चाहते, आप तो बस आगे बढ़ना चाहते हैं और सफल होना चाहते हैं। इतना सोचने से ही "डर" बहुत दूर चला जाएगा। और अगर आस पास होगा भी तो आपको touch नहीं कर पाएगा। जब आपके सामने " डर " होता है और फिर भी आप सक्सेस की ओर एक कदम आगे बढ़ा रहे होते हैं - यही तो असली ताकत है।

( 7). Focus on self-improvement

Seventh step मे self-improvement पर ध्यान दीजिए। जी हां, बिल्कुल हमारी हार भी तो हमें बहुत कुछ सिखाती है। इसीलिए अपने failure से जुड़े important points को note down कीजिए ताकि आपको पता लगे कि क्या आपके प्लान में कमी थी या आपके पास पर्याप्त equipment नहीं थे। इससे आप weak point को समझ सकेंगे, उसका reason जान सकेंगे और उसे दूर कर सकेंगे। अपनी  weakness को अपनी strength बनाइये। ताकि अगली बार आपको इसके वजह से फेल ना होना पड़े बल्कि यही कमजोरी अगली बार ताकत बनकर आपको जिता सके।

( 8). Start new now

अब  बात करते हैं आठवें स्टेप की। इसके अनुसार अब आप नई शुरुआत कीजिए। जब भी हम हार जाते हैं, दुखी होते हैं तो अगर कोई आकर के कंधे पर हाथ रखे या फिर ऐसे ही कोई बोल जाए- "अरे कोई problem नहीं यार, चलो एक बार फिर से शुरू करते हैं" यानी अगर उत्साह बढ़ाये तो कितना अच्छा लगता - है ना। लेकिन कोई कहे तो सही। लोग ताना मारने के अलावा कुछ नहीं कहते हैं, बस point out करते रहते हैं और कमियां गिनते रहते हैं। ऐसे लोगों से थोड़ी दूरी बनाए रखें या फिर आप पर उनके negative बातों का फर्क नहीं पड़नी चाहिए और अगर फर्क इतना पड़ ही रहा है तो आज के इस आर्टिकल में जो हम आपसे कह रहे हैं इसका भी फर्क आप पर पड़ना चाहिए। जो भी हुआ सो हुआ, नई शुरुआत करें।

Failure को करीब से देखने समझने और उस से सीख लेने के बाद बारी आती है एक नई शुरुआत की जिसमें हार का कोई डर नहीं है बल्कि सिर्फ जीत की तैयारी होती है। Failure आपको तोड़ देगी या सफलता की राह पर मोड़ देगी। यह पूरी तरीके से आपकी choice होती है। अगर आप हार करके बैठ जाए तो टूटना पसंद करते हैं और अगर आप फिर से खड़े होना चाहे तो जीते बिना रुकना नहीं चाहते। इसीलिए एक दम नई शुरुआत कीजिए। अपने सपनों तक पहुंचने के लिए अपने goals और अपने सपनों को पूरा करने के इस सफर में failure आपकी inspiration बनेगी और इस बार "जीतना " आपके लिए काफी आसान हो जाएगा। क्योंकि failure ने आपको पहले के तुलना में कहीं ज्यादा strong, tough, और motivated बना दिया है।

अब फेलियर से बाहर निकलने और आगे बढ़ने से जुड़ी सारी जानकारी आपके पास है। इन 8 steps की गाइडलाइन से आप मदद लेकर के आसानी से failure से बाहर निकल सकते हैं और इसी के साथ मुझे पूरी उम्मीद है कि आप अपने सफर को रोकेंगे नहीं। जहां भी हैं, जिस भी situation में है, बस एक कदम आगे बढ़ाइए। इतने सारे लोगों की बातों को मानकर आपने इतना stress लिया है। आज हमारी बात मान करके थोड़ा और आगे बढ़िये।

जीत के इस journey मे एक और बात याद रखिए- failure आते रहेंगे, समझ लीजिए कि compulsory है। तो बस goals तक पहुंचने के लिए रुकिए मत, कदम आगे बढ़ाते रहिए और इसी के साथ मुझे भी आगे बढ़ना होगा। तो कमेंट बॉक्स में लिख करके बताइए कि यह आर्टिकल आपको कैसा लगा। क्या वाकई में इस आर्टिकल में दिये गये steps ने आपको मोटिवेट किया। अगर आपके आसपास किसी को इस मोटिवेशन की जरूरत हो तो यह आर्टिकल उनके साथ जरूर शेयर कीजिये।

नोट: यदि आपके पास "असफलता के बाद कैसे उठें- 8 Easy Steps | How to rise after failure in hindi" के बारे में अधिक जानकारी है या आप दी गई जानकारी में कुछ गलत पाते हैं, तो तुरंत हमें एक टिप्पणी लिखें और हम इसे अपडेट करते रहेंगे।

अगर आपको हमारी जानकारी असफलता के बाद कैसे उठें- 8 Easy Steps ” पसंद है, तो कृपया फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर share करें।

नोट: free ई-मेल subscription ले और अपने ईमेल पर सभी नवीनतम जानकारी प्राप्त करें।

Thank You


Share now

👇👇👇👇👇

    

1 Comments

Post a Comment

Previous Post Next Post